Whatsapp Hindi Status One Line – Short Love Status In Hindi

 

नजर‬ झुका के बात कर ‪#‎पगली‬ , जीतने तेरे पास ‪#‎कपडे‬ नही होन्गे, ‪#‎उतने‬ तो मे रोज ‪#‎लफडे‬ करता हुं…..!!!!

 

मेरा_बुरा_चाहने‬ वालो समझ लो तुम्हारी मौत आई हैँ, क्योकि यमराज तो अपना छोटा भाई हैँ।

 

ए लडकी तु तेरे ‪#‎ATTITUDE‬ का फोटो खींचकर ‪#‎OLX‬ पर बेच दे कयोंकी हमें “पुरानी” चीजे पसंद नही करते…..!।!

 

अगर है गहराई …तो चल डुबा दे मुझ को, समंदर नाकाम रहा …अब तेरी आँखो की बारी है!!!

 

जरा मुस्कुरा के देखो, दुनिया हँसती नजर आएगी!!!

 

जिस तरह अपनी पेहचान खुद बनाई , उसी तरह में अपनी “जन्नत”भी खुद बनावुंगा!!!!

 

लोग केहते है की मेरे दोस्त कम है लेकीन, वोह नही जानते की मेरे दोस्तो मे कीतना”दम”हैं”……!

 

मेरी फितरत में नहीं अपना गम बयां करना , अगर तेरे वजूद का हिस्सा हूँ तो महसूस कर तकलीफ मेरी..।।

 

जनाब मत पूछिए हद हमारी गुस्ताखियों की , हम आईना ज़मीं पर रखकर आसमां कुचल दिया करते है ।

 

इतना भी गुमान न कर आपनी जीत पर ” ऐ बेखबर ” शहर में तेरे जीत से ज्यादा चर्चे तो मेरी हार के हैं।….।।

 

मुझमे खामीया बहुत सी होगी मगर, एक खूबी भी है… मे कीसी से रीश्ता मतलब के लीये नही रखता.

 

खून अभी वो ही है ना ही शोक बदले ना ही जूनून, सून लो फिर से, रियासते गयी है रूतबा नही, रौब ओर खोफ आज भी वही हें

 

जीत हासिल करनी हो तो काबिलियत बढाओ, किस्मत की रोटी तो कुत्तेको भी नसीब होती है.!!

 

हम उस ऊंचाई पर हे जहा तुम्हारे सर से ज्यादा उंचाई पर हमारे पांव रहते हे ।

 

शेर खुद अपनी ताकत से राजा केहलाता है; जंगल मे चुनाव नही होते.. ।।

 

तुम जिन्दगी में आ तो गये हो मगर ख्याल रखना; हम ‘जान’ दे देते हैं मगर ‘जाने’ नहीं देते !!

 

इसी बात से लगा लेना मेरी शोहरत का अन्दाजा… वो मुझे सलाम करते है, जिन्हे तु सलाम करता हैं !!

 

वो मंज़िल ही बदनसीब थी जो हमें पा ना सकी,…. वरना जीत की क्या औकात जो हमें ठुकरा दे ।

 

किसीकी क्या मजाल जो खरीद सकता हमको , वो तो हम ही बिक गये खरीददार देख के !

 

ज़हासे तेरी बादशाही खत्म होंती हे , वहासे मेरी नवाबी सुरु होती हे !

 

पैदा तो में भी शरीफ हुवा था , पर शराफत से अपनी कभी नही बनी ।

 

हमारी ताकत का अंदाजा हमारे जोर से नही..दुश्मन के शोर से पता चलता है!!

 

तू मुहब्बत से कोई चाल तो चल, हार जाने का हौसला है मुझ में!!!

 

सीढिया उन्हे मुबारक हो….. जिन्हे छत तक जाना है….. मेरी मन्जिल तो आसमान है.. रास्ता मुझे खुद बनाना है..।

 

तमन्ना तेरे जिस्म की होती तो छीन लेते दुनिया से,; इश्क तेरी रूह से है इसलिए, खुदा से मांगते हैं तुझे।

 

मेरी तकदीर को बदल देंगे मेरे बुलंद इरादे, मेरी किस्मत नहीं मोहताज मेरे हाँथों कि लकीरों कि !!!

 

बात मुक्कदर पे आ के रुकी है वर्ना, कोई कसर तो न छोड़ी थी तुझे चाहने में !!

 

अब सज़ा दे ही चुके हो तो मेरा हाल ना पूछना, अगर मैं बेगुनाह निकला तो तुम्हे अफ़सोस बहुत होगा!!

 

संघर्षो में यदि कटता है तो कट जाए सारा जीवन..!! कदम-कदम पर समझौता मेरे बस की बात नहीं….!!!!

 

दुआओ को भी अजीब इश्क है मुझसे… वो कबूल तक नहीं होती मुझसे जुदा होने के डर से …!!!

 

अपनी मर्जी से तो मुझे खाक भी मंजूर है… तेरी शर्तो पर तो ताज भी मंजूर नहीं…!!!

 

नहीं मिलेगा तुझे कोई हम सा, जा इजाजत है ज़माना आजमा ले !!

 

आज़ाद कर दूंगा तुमको अपनी मुहब्बत की क़ैद से , करे जो हमसे बेहतर तुम्हारी क़दर पहले वो शख्स तो ढूँढो!!!

 

मिल सके आसानी से… उसकी ख्वाहिश किसे है? जिद्द तो उसकी है… जो मुकद्दर में लिखा ही नही है…!!!

 

तेरे दीदार की तलाश में आते है तेरी गलियों में वरना आवारगी के लिए पूरा शहर पड़ा हे ।

 

ज़माने तेरे सामने मेरी कोई हस्ती नहीं,, लेकिन,,, कोई खरीद ले इतनी भी ये सस्ती नहीं!!!

 

सिकंदर तो हम अपनी मर्जी से है , पर हम दुनिया नहीं दिल जितने आये हे ।

 

बेशक ताज के पत्तों में लाखों गवा दिये, पर रुतबा आज भी ईतना है कि, बेगम आज भी हमारे ईशारो पे चाल चलती है !!

 

हक़ से दो तो तेरी नफरत भी कुबूल है हमें , खैरात में तो हम तुम्हारी मोहब्बत भी न लें!!!

 

हजारों चेहरों में उसकी झलक मिली मुझको… पर. दिल भी जिद पे अड़ा था कि अगर वो नहीं ,तो उसके जैसा भी नहीं!!!

 

ना पूछ मेरे सब्र की इन्तहा कहाँ तक है, तू सितम कर ले तेरी ताक़त जहाँ तक है.

 

अपुन की जिंदगी ताश के इक्के की तरह हे , जिसके बगेर रानी और बादशाह भी अधूरे हे ।

 

दूर जा रहे हो तो सोंक से जाना ,. बस इतना याद रखना ; पीछे मुड़ने के देखने की आदत ईधर भी नही हे !

 

अगर परछाईयाँ कद से और बाते औकात से बडी होने लगे ; तो समझ लो कि सूरज डूबने ही वाला है!!

 

उनको डर है कि हम उन के लिए जान नही दे सकते, और मुझे खोफ़ है कि वो रोएंगे बहुत मुझे आज़माने के बाद !!

 

टूटे हुए सपनो और छुटे हुए अपनों ने मार दिया…… वरना ख़ुशी खुद हमसे मुस्कुराना सिखने आया करती थी!!!

 

गिनती ठीक से सीखा नही, मगर… इतना मालूम हैं खुशियाँ बांटने से बढती हैं !

 

सिर्फ तेरे इश्क की गुलामी में हु आज भी , वरना ये दिल एक अरसे तक नवाब रहा हे !

 

शौक से बदल जाओ तुम मगर ये ज़हन मैं रखना की…… हम जो बदल गये तो तुम करवटें बदलते रह जाओगे.!

 

महसूस जब हुआ कि सारा शहर, मुझसे जलने लगा है, तब समझ आ गया कि अपना नाम भी, चलने लगा है”!!!

 

दुनियादारी की चादर ओढ़ी है। पर जिस दिन दिमाग सटका ना, इतिहास तो इतिहास। भूगोल भी बदल देंगे।

 

तुम खुश-किश्मत हो जो हम तुमको चाहते है… वरना, हम तो वो है जिनके ख्वाबों मे भी लोग इजाजत लेकर आते है…!!

 

मैं तेरे नसीब की बारिस नहीं जो तुज पे बरस जाऊ।। तुझे तक़दीर बदल नि होगी मुझे पाने के लिए ।

 

हालात ने तोड़ दिया हमें कच्चे धागे की तरह… वरना हमारे वादे भी कभी ज़ंजीर हुआ करते थे..

 

हमारे एक इशारे पे हवाए भी अपना रुख बदल देती हे , मेरे तिनके बिखेरे जो , ज़हान मैं किसकी हस्ती हे !!

 

ओरों की जमीन सिर्फ जमीन हे और ; हमारी जमीन एक गरदिश।

 

मेरी हिम्मत को परखने की गुस्ताखी न करना, पहले भी कई तूफानों का रुख मोड़ चुका हु!!

 

वो खुद पर गरूर करते है, तो इसमें हैरत की कोई बात नहीं! जिन्हें हम चाहते है, वो आम हो ही नहीं सकते !!

 

वो तरस जाएँगी प्यार की एक बूँद के लिए; मैं तो बादल हूँ किसी और पे बरस जाऊंगा।

 

तू जिद हे इस दिल की , वरना इन आँखो ने , और भी हसीन चेहरे देखे हे ।

 

मेरे बारे में इतना मत सोचना , दिल में आता हु , समज में नही ।

 

बन्दा खुद की नज़र में सही होना चाहिए… दुनिया तो भगवान से भी दुखी है !

 

Akki

But First ,let Me Introduce Myself Properly,I'm Akki .I'm A Blogger Writer. I Love Blogging And Guide Others People About Blogging Also.

Leave a Reply