‎2 लाइन शायरी

 

We have ‎2 लाइन शायरी ,शायरी प्यार कीफनी शायरी, शायरी दोस्ती की, शायरी हिन्दी, शायरी दर्द, शायरी हिंदी में and some popular two line  hindi love shayri sad shayari etc. Shayari is one the most searching item on Google. Specially those people search for shayari more,who are less educated. These shayari touch your heart. On special request of our user we decide to upload these shayari. We have taken this shayari from famous shayari site named shayari.com. We choose five star rating shayari from them and collect it one place. When you read these shayari you don’t go anyway without completing all shayari.The culture of shayari started when a famous shayar Mirza ghalib sung shayari in street . After that their shayaris gone vitals. In every street people called him for their popular shayari.

So never miss out our special collection from www.shayaricollection.com. You can also share these shayari in Facebook and in whatsapp group. The good thing about these shayari is you can also use it on your whatsapp status. These shayari enhance your whatsapp visibility. We also include most popular shayars Mirza ghalib shayari here. I mean you will see all types of shayaris in different category.

 

‎2 लाइन शायरी
‎2 लाइन शायरी

 

Two Line  Hindi  shayari

 

हमें पसंद नहीं जंग में भी मक्कारी
जिसे निशाने पे रक्खें बता के रखते हैं,.,!!


ज़िंदगी दी हिसाब से उस ने
और ग़म बे-हिसाब लिक्खा है,.,!!


जो सुनना चाहो तो बोल उट्ठेंगे अँधेरे भी
न सुनना चाहो तो दिल की सदा सुनाई न दे,.,!!


कैसे मंज़र सामने आने लगे हैं
गाते गाते लोग चिल्लाने लगे हैं.,,!!


टूटे हुए सपनो और छुटे हुए अपनों ने मार दिया,.,
वरना ख़ुशी खुद हमसे मुस्कुराना सीखने आया करती थी,.,!!


मैं क्यूँ कुछ सोच कर दिल छोटा करूँ…
वो उतनी ही कर सकी वफ़ा जितनी उसकी औकात थी…!!


मेरे दिल❤️से खेल तो रहे हो तुम पर..
जरा सम्भल के…
ये थोडा टूटा हुआ है कहीं तुम्हे ही लग ना जाए..!!


समय बहाकर ले जाता है, नाम और निशां,
लेकिन कोई “हम ” में रह जाता है, तो कोई “अहम् ” में,.,!!


अगर किसी रानी को राजा ना मिल रहा हो…
तो बता दु बचपन में माँ मुझे राजा बेटा बुलाती थी,.,!!


मेरी बाँहों में बहकने की सज़ा भी सुन ले
अब बहुत देर में आज़ाद करूँगा तुझ को,.,!!


हद है अपनी तरफ़ नहीं मैं भी
और उन की तरफ़ ख़ुदाई है,.,!!


मैं कब तन्हा हुआ था याद होगा
तुम्हारा फ़ैसला था याद होगा,.,!!


ले मेरे तजरबों से सबक़ ऐ मिरे रक़ीब
दो-चार साल उम्र में तुझ से बड़ा हूँ मैं,.,!!


इश्क़ में भी कोई अंजाम हुआ करता है
इश्क़ में याद है आग़ाज़ ही आग़ाज़ मुझे ,.,!!


बड़े लोगों से मिलने में हमेशा फ़ासला रखना
जहाँ दरिया समुंदर से मिला दरिया नहीं रहता,.,!!


कुछ इस तरह झटकायी उसने अपनी गीली जुल्फें ,.,
की आज सारे शहर में बारिश का मौशम छा गया ,.,!!


नाज़ुकी उस के लब की क्या कहिए
पंखुड़ी इक गुलाब की सी है…!!


पीछे बंधे हैं हाथ मगर शर्त है सफ़र
किस से कहें कि पांव का कांटा निकाल दे ,.,!!


है अजीब शहर की ज़िंदगी न सफ़र रहा न क़याम है
कहीं कारोबार सी दोपहर कहीं बद-मिज़ाज सी शाम है,.,!!


तेरी आँखों से एक चीज लाजवाब पीता हूँ ,.,
मैं गरीब जरूर हूँ मगर सबसे महंगी शराब पीता हूँ ,.,!!


सामने आइना रखती तो गश आ जाता ,.,
तुमने अंदाज नहीं देखा अपनी अदा का ,.,!!


बाग़ में टहलते हुए एक दिन जब वो बेनक़ाब हो गए ,.,
जितने पेड़ थे बबूल के सब के सब गुलाब हो गए ,.,!!


कुछ न था मेरे पास खोने को
तुम मिले हो तो डर गया हूँ मैं,.,!!


तितलियाँ उड गईं लौटा के मुहब्बत मेरी,
मैं ने भी छोड दिया रंगों को सादा कर के !!


रफ़्ता रफ़्ता धड़कनों से रूह का नाता छूटा हैं,
इस खामोश मोहब्बत में दिल बड़े शोर से टूटा हैं,.,!!


कोशिश बहुत की के राज़-ए-मोहब्बत बयाँ न हो
पर मुमकिन कहां है के आग लगे और धुआँ न हो,.,!!


बस एक ही ख्वाब देखा है कई बार मैंने ,.,
तेरी साड़ी में उलझी हैं चाभियां मेरे घर की ,.,!!


इश्क़ उदासी के पैग़ाम तो लाता रहता है दिन रात
लेकिन हम को ख़ुश रहने की आदत बहुत ज़ियादा है,.,!!

इश्क़ था और अक़ीदत से मिला करते थे
पहले हम लोग मोहब्बत से मिला करते थे,.,!!


Akki

But First ,let Me Introduce Myself Properly,I'm Akki .I'm A Blogger Writer. I Love Blogging And Guide Others People About Blogging Also.

Leave a Reply